Thursday, June 20
Shadow

विधायक विजय मिश्रा पर मुकदमा दर्ज कराने वाले पर भी अदालत के आदेश पर मुकदमा

पटना । आगरा सेंट्रल जेल में बंद भदोही जिले से निषाद पार्टी के विधायक विजय मिश्रा (Vijay Mishra) की बहू पुष्पलता मिश्रा ने अदालत की मदद से कृष्णमोहन तिवारी और उनके तीन बेटों पर गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया है। इसके पूर्व कृष्णमोहन तिवारी ने विजय मिश्रा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने बताया कि मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट आशुतोष कुमार के आदेश पर जिले के गोपीगंज थाने में कृष्णमोहन तिवारी समेत चार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। 

चिराग का नीतीश पर हमला – सिर्फ कुर्सी के खेल में ‘साहब’ ने बिहारियों के 5 साल बर्बाद किए

भदोही के पुलिस अधीक्षक राम बदन सिंह ने सोमवार को कहा कि अदालत के आदेश पर गोपीगंज थाने में तिवारी और उनके तीन बेटों के खिलाफ धारा 323, 504 और 506 (मारपीट कर जान से मारने की धमकी देना), 347 (मूल्यवान संपत्ति जबरन छीनना), 387(जबरन वसूली के लिए भयभीत करना), 392 (लूट), 449 (अपराध के इरादे से बिना अनुमति घर में घुसना) के तहत 16 अक्टूबर को मुकदमा दर्ज किया गया और मामले की विवेचना की जा रही है। 

भाजपा प्रत्याशी के बिगड़े बोल पर अब कांग्रेस ने शिवराज से पूछा- कल कहां मौन धरना देंगे

पुलिस अधीक्षक ने दर्ज मामले के आधार पर कहा कि विजय मिश्रा के रिश्तेदार कृष्णमोहन तिवारी ने विधायक, विधायक की पत्नी रामलली और विष्णु मिश्रा पर चार अगस्त को एक मुकदमा दर्ज कराया था। इससे पहले कि विजय मिश्रा सहित उनके परिवारवालों को पकड़ा जाता, उसी मकान में विजय मिश्रा ने सात अगस्त को अपने भाई के बेटे प्रकाश चंद्र मिश्रा और उसकी पत्नी पुष्पलता मिश्रा उ$र्फ नीरज मिश्रा को वहां बुलाकर कब्काा बरकरार रखने की साजिश की और विधायक परिवार सहित फरार हो गए।

अब्दुल्ला से ED की पूछताछ के बाद नेशनल कॉन्फ्रेंस ने मोदी सरकार पर बोला हमला

 उनके मुताबिक पुष्पलता मिश्रा ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में एक याचिका दी थी, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि 19 अगस्त को कृष्णमोहन तिवारी और उनके तीन बेटे रामकमल, सूर्यकमल और नीलकमल उनके कमरे में लाठी-डंडे और तलवार से लैस होकर घुस गए तथा दो स्टांप पेपर पर उनके दस्तखत करा लिए और सोने की चेन छीनकर ले गए। इसपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने मुकदमा दर्ज कर विवेचना के आदेश दिए। 

ग्लोबल हंगर इंडेक्स में पाक, बांग्लादेश से भी पीछे भारत, प्रशांत भूषण ने कसा तंज

 इस संदर्भ में कृष्णमोहन तिवारी ने मीडिया से कहा कि उन्होंने जब संपत्ति और अपनी फर्म पर कब्काा करने वाले विजय मिश्रा पर मुकदमा दर्ज कराया और जिला प्रशासन से एक वायरल वीडियो के माध्यम से घर खाली करने की गुहार लगाई, तब से ही जेल में बंद विजय मिश्रा और उनके परिवारवाले हर दिन कोई न कोई साजिश रचने में लगे हैं। 

तिवारी ने कहा, ‘‘वर्ष 2001 में विजय मिश्रा इलाहाबाद से यह कहकर हमारे घर कौलापुर में आए कि चुनाव लड़कर चले जाएंगे, लेकिन यहीं रहने लगे। हम लोगों ने सोचा कि वह रिश्तेदार हैं और कुछ दिन रहकर चले जाएंगे लेकिन विधायक बनने तथा रुतबा बढऩे के बाद उनकी नीयत बदल गई।’’ उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और पुलिस के आला अधिकारियों से मामले में उच्चस्तरीय जांच की मांग की। 

बिहार चुनाव: लोजपा से पल्ला छुड़ाने में जुटी भाजपा, अंदरूनी साठगांठ की चर्चा से परेशान

उल्लेखनीय है कि विधायक विजय मिश्रा और उनके बेटे समेत तीन लोगों के खिलाफ एक गायिका की शिकायत पर रविवार को बलात्कार का भी मामला दर्ज किया गया है। पुलिस अधीक्षक राम बदन सिंह के मुताबिक वाराणसी निवासी 25 साल की एक गायिका ने आरोप लगाया है कि विधायक विजय मिश्रा ने साल 2014 में उसे अपने यहाँ एक कार्यक्रम में बुलाया था और उसी दौरान उसके साथ बलात्कार किया। बाद में विधायक के बेटे और भतीजे ने भी बलात्कार किया।

बिहार और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें DTW 24 NEWS UPDATE Whatsapp Group:- https://chat.whatsapp.com/E0WP7QEawBc15hcHfHFruf

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *