Sunday, June 23
Shadow

बिहार में 27 लोगों को चुनाव लड़ने पर रोक,आयोग ने की लिस्ट जारी

पटना । बिहार के 27 नेताओं को चुनाव लड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। आयोग ने इन प्रत्याशियों की लिस्ट सभी जिलों में भेज दी हैं। इन सभी नेताओं को लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 10 (क) के तहत चुनाव लड़ने पर प्रतिबंध लगाया है। ये सभी 27 लोग बिहार के 17 विधानसभा क्षेत्र से जुड़े हैं।

बता दें कि जनवरी 2020 तक बिहार में 89 लोगों को चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य घोषित किया गया था इनमें से 62 लोगों को 3 साल की प्रतिबंधित अवधि सितंबर में समाप्त हो गई है। वहीं इन 27 लोगों में कुछ लोगों को सितंबर 2021 और कई अन्य को जनवरी 2022 तक चुनाव लड़ने पर प्रतिबंध लगाया गया है।

ALSO READ:-Unlock 5.0: सिनेमा हॉल, टूरिज्‍म… जानें 1 अक्‍टूबर से किन-किन चीजों की छूट दे सकती है सरकार

अली नगर विधानसभा से अनंत कुमार, केवटी से विजय कुमार, खगड़िया से बबीता देवी, शेश्वरस्थान से तुरंती सदा, बेनीपुर से ताराकांत झा, बेनीपुर से जितेंद्र पासवान, हायाघाट से मोहम्मद अरशद और रामसखा पासवान,पातेपुर से लखींद्र पासवान,परबत्ता से सतीश प्रसाद सिंह, केवटी से अशोक झा, गायघाट से रघुनाथ प्रसाद सिंह, हथुआ से संजय मौर्य और फारुख खान, कुम्हरार से सुबोध कुमार, कुटुंबा से रंजीत कुमार, औरंगाबाद से संजीत चौरसिया, कुढ़नी से सरजीत सुमन, अशर्फी शनि, अभय कुमार ,पूजा कुमारी और कुमार विजय, भोरे से जानकी देवी, शर्मा देवी, बेलदौर से बिंदु देवी शामिल हैं।

चुनाव आयोग को लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 10 को के तहत यह अधिकार है कि कोई भी प्रत्याशी चुनावी खर्च का ब्यौरा नहीं दे तो उस पर प्रतिबंध लगा सकता है । चुनाव खर्च का ब्यौरा परिणाम आने के 30 दिनों के अंदर नहीं देता है या फिर बेवड़ा नहीं देने की कोई वाजिब कारण नहीं बताता है तो आयोग उसे 3 वर्ष की अवधि के लिए चुनाव लड़ने पर रोक लगा सकता है। यह सभी 27 प्रत्याशी 3 सालों के लिए प्रतिबंधित किए गए हैं इनकी अवधि जनवरी 2022 में पूरी हो रही है।

ALSO READ:-जातीय हिंसा और संपत्ति विवाद में बिहार नंबर 1, NCRB ने आंकड़ा किया जारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *