Thursday, February 29
Shadow

हाजीपुर नहीं पहुंच पाया रामविलास का पार्थिव शरीर, मायूस समर्थक ने विरोध में लगाया ये नारा

रामविलास पासवान का पार्थिव शरीर हाजीपुर में किए जाने की जिद करने वाले समर्थक मायूस हो गए। इसके लिए सबने धरने का भी मन बनाया था। लेकिन दुख की घड़ी में विरोध से दूर रहे। हाजीपुर की मिट्‌टी को रामविलास पासवान मां मानते थे और यही कारण है कि समर्थक ‘मां के आंचल’ तक पार्थिव शरीर ले जाने के लिए जिद कर रहे थे।

रामविलास पासवान के करीबी और पार्टी कायर्कर्ता सुधीर यादव का कहना है कि पार्थिव शरीर नहीं आने से हाजीपुर के लोग मायूस हो गए हैं। समर्थकों का कहना है कि हाजीपुर में पार्थिव शरीर नहीं आ पाया तो अब हम उस कमी को श्रद्धांजलि देकर पूरी करेंगे।

हाजीपुर के लोग कैसे भूल पाएंगे


हाजीपुर के कृष्ण मोहन पासवान और सुधीर यादव का कहना है कि हाजीपुर के हर गली मोहल्ले में रामविलास पासवान बसते हैं। यहां के लोग और यहां की मिट्‌टी उन्हें कभी नहीं भूल पाएगी। रामविलास पासवान इसी प्यार और यहां मिली सफलता के कारण हाजीपुर को मां मानते थे। कार्यकर्ता से लेकर समर्थक तक सभी चाहते थे कि उनके पार्थिव शरीर को दो मिनट के लिए ही सही, लेकिन हाजीपुर लाया जाए। दुकानदारों से लेकर क्षेत्र के लोग फूल-माला की भी व्यवस्था कर लिए थे और उन्हें विश्वास था कि पार्थिव शरीर हाजीपुर जरूर लाया जाएगा।

व्यापारी से लेकर कार्यकर्ताओं की रही भीड़


हाजीपुर में कार्यकर्ताओं से लेकर व्यापारियों को भी रामविलास पासवान के पार्थिव शरीर के आने का इंतजार था। सुबह सूचना भी मिल गई थी कि हाजीपुर में अंतिम दर्शन के लिए शव को लाया जाएगा। दोपहर बाद जब लोगों को पता चला कि पटना के दीघा घाट पर ही उनका अंतिम संस्कार किया जा रहा है तो लोगों को निराशा हुई।

यह भी पढ़े :-8 बच्चों की गैंग ने ‘बुजुर्ग दादा’ को गुदगुदी कर जेब से उड़ा लिए 50 हजार रुपए, तलाश में जुटी पुलिस

इसके बाद क्षेत्र के समर्थकों और कार्यकर्ताओं ने योजना बनाई कि रविवार को पूरे हाजीपुर और आसपास के ब्लाक में शोकसभा कर रामविलास पासवान को श्रद्धांजलि दी जाएगी। शनिवार से ही इसके लिए तैयारी की जा रही है। हाजीपुर के सुधीर यादव का कहना है कि पोस्टर-फोटो और माला के लिए शनिवार से ही तैयारी की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *