Wednesday, June 12
Shadow

नीतीश कुमार ने सातवीं बार शपथ लेकर भारतीय राजनीति के इतिहास में रचा रिकॉर्ड…एक नजर उनकी बुलंदियों पर

बिहार चुनाव परिणाम में एनडीए को बहुमत के बाद आज नीतीश कुमार एक बार फिर मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. नीतीश कुमार सातवीं बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेकर भारतीय राजनीति के इतिहस में कई रिकॉर्ड अपने नाम कर लिये है. आइये जानते हैं बिहार के मुख्यमंत्री की राजनीतिक बुलंदियों के बारे में…

Nitish Kumar Oath Ceremony Live News से जुड़ी हर खबर के लिये बने रहिये DTW 24 NEWS पर ….

नीतीश कुमार ने भारतीय रजनीति में रचा इतिहस

1-1985 में पहली बार विधायक चुने गए नीतीश कुमार ने सातवीं बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली.

2-पहली बार साल 2000 में 3 से 10 मार्च तक वह केलव सात दिनों के लिए मुख्यमंत्री बने.

3-2005 में नीतीश कुमार ने बीजेपी के साथ चुनाव लड़ा और बहुमत के साथ सरकार बनायी

4-2020 में विधानसभा चुनाव जीतने के बाद नीतीश कुमार सातवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली, जो कि एक रिकॉर्ड है.

चार दशक से बने बिहार के राजनीति का केन्द्र

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पिछले चार दशक से बिहार की राजनीति का केंद्र बने हुए हैं. नीतीश कुमार ने अपने राजनीति की शुरुआत जेपी आंदोलन और लालू प्रसाद यादव के साथ रहकर की.1977 के बाद हिंदी भाषी राज्यों में लगातार चौथी पारी का जनादेश हासिल करने वाले नीतीश पहले मुख्यमंत्री बन गए हैं. गठबंधन में लगातार चार चुनावी जीत के बाद मुख्यमंत्री बनने का रिकार्ड भी अब नीतीश के नाम दर्ज हो गया.

गौरतलब है कि बिहार चुनाव में एनडीए को 125 और महागठबंधन को 110 सीटें मिली है. बड़ी बात यह है कि चुनाव परिणाम में राजद 75 सीट जीतकर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है. दूसरी तरफ बीजेपी को 74 तो जेडीयू को 43 सीटें मिली है. 28 अक्टूबर को पहले चरण, 3 नवंबर को दूसरे और 7 नवंबर को तीसरे चरण की वोटिंग के बाद 10 नवंबर को नतीजे घोषित हुए. नतीजों के ऐलान के बाद 125 सीटें जीतकर एनडीए बहुमत में आ गई.

बिहार और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें DTW 24 NEWS UPDATE Whatsapp Group:- https://chat.whatsapp.com/E0WP7QEawBc15hcHfHFruf

Support Free Journalism:-https://dtw24news.in/dtw-24-news-ka-hissa-bane-or-support-kare-free-journalism

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *