Tuesday, May 28
Shadow

दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान पुलिस का खौफनाक चेहरा आया सामने, 4 लोगों की मौत, कई घायल

Munger:बिग ब्रेकिंग: मुंगेर में बीती रात मूर्ति विसर्जन को लेकर पब्लिक और पुलिस झड़प में एक व्यक्ति की मौत और 7 लोग घायल हो गए थे। बता दे कि अब खबर आ रही है कि घायल 7 लोगों में से 3 की मौत इलाज के दौरान हो गयी है।इसको लेकर अब RJD, BJP के पार्टी के लोग पब्लिक को समर्थन दे रहे है और पुलिस प्रशासक एवं जिला प्रशासक के विरोध में जम नारे लगाए जा रहे है।

मालूम हो कि कल बीती रात को मुंगेर में पुलिस कि बर्बरता के कारण प्रतिमा विसर्जन को लेकर पुलिस और पब्लिक में हुई नोक झोंक में आक्रोशित लोगो ने पुलिस पर पथराव किया। गोली बारी के दौरान एक युवक की मौत और 7 लोग बुरी तरह से घायल बताए जा रहे है।बता दे कि इलाज के लिए सदर अस्पताल में उन्हें भरती कराया गया था।इस पत्थराव में पुलिस के जवानों एवं अधिकारियों के घायल होने की ख़बर आ रही है। उसके जवाब में पुलिस को भी हवा में चलानी पड़ी कई चक्र गोलियां।

मुंगेर में कोतवाली थाना क्षेत्र के पंडित दीन दयाल चौक के पास पुलिस द्वारा प्रतिमा विसर्जन समिति के लोगों के साथ बरबर्ता पूर्वक पेस आने के कारण पुलिस और प्रतिमा विसर्जन समिति के लोगों में नोक झोंक हो गयी।बता दे कि बात इतना बढ़ गया कि आक्रोषित लोगों ने पुलिस पर पत्थराव कर दिया।जिसमें पुलिस के एक पदाधिकारी सहित कई जवानों के घायल होने कि खबर है।इस मामले प्रत्यक्षदर्शियों की माने तो सभी प्रतिमा विसर्जन के लिए लाइन में लगी हुई बड़ी देवी की प्रतिमा विसर्जन का इन्तेजार कर रहे थे।तभी कुछ पुलिस पदाधिकार पंडित दीन दयाल चौक के पास अपनी पारी का इन्तेजार कर रहे एक प्रतिमा विसर्जन समिति के लोगो पर प्रतिमा विसर्जन को लेकर दवाब डालने लगे।जिससे प्रतिमा विसर्जन समिति के लोगों और पुलिस के बीच नोक झोंक हो गई जिस पर उस पुलिस पदाधिकारी ने अपने वरीय अधिकारी के निर्देश पर लोगों को बिना अंतिम चेतावनी दिए बगैर लोगों पर गोली चला दी। जिससे मौके पर ही बेकापुर लोहापट्टी निवासी अनुराग कुमार कि मौके पर ही मौत हो गई।

अब सवाल ये उठ रहा है कि जहां एक तरफ चुनाव का मौहौल है वही दूसरी तरफ मूर्ति विसर्जन को लेकर पुलिस की बर्बरता के कारण जिस तरह कि घटना मुंगेर में हुई है उससे तो यह साफ़ जाहिर हो रहा है कि पुलिस प्रशासक जनता के साथ खिलवाड़ कर रही है।आने वाले टाइम में पुलिस इस घटना से खुद में बदलवा ला पाती है या चुनाव में भी पुलिस का खौफनाक चेहरा देखने को मिलता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *