बिहार में अभी नहीं थमा डेंगू:आंकड़ा 6 हजार तक पहुंचा, पिछले 24 घंटे में कुल 103 मरीज मिले

Advertisement

डेंगू का प्रकोप कभी कम तो कभी अधिक हो जा रहा है। सोमवार को 103 मरीज मिले हैं। इनमें 35 पटना के हैं। पटना में अबतक 5972 लोग डेंगू से पीड़ित हो चुके हैं। राज्य के अस्पतालों में 164 मरीज भर्ती हैं। सबसे अधिक पटना के अस्पतालों में 105 मरीज भर्ती हैं। राज्य में अबतक 13 मरीजों की डेंगू से मौत हो चुकी है। सोमवार को अजीमाबाद 1, बांकीपुर में 4, पाटलिपुत्रा में 4 और नूतन राजधानी अंचल में 16 मरीज मिले हैं।यही इलाके शुरू से ही हॉटस्पॉट बने हुए थे। वरीय फिजिशियन डॉ. राजीव रंजन का कहना है कि डेंगू का प्रकोप कम होता जरूर दिख रहा है। लेकिन अभी खत्म नहीं हुआ।

Join

डेंगू मरीजों की कुल संख्या 5972

Advertisement

बिहार में प्रतिदिन डेंगू के नए मामले सामने आ रहे हैं। बता दें कि डेंगू से कुल 13 मरीजों की मौत हो चुकी है। इसमें दो मरीज एनएमसीएच, एक पीएमसीएच और 3 प्राइवेट अस्पताल के हैं। वहीं बीते दिन सोमवार को पटना जिले में 35 नए मामले सामने आए इसके साथ ही डेंगू मरीजों की संख्या बढ़कर 5972 हो गई है।

अस्पताल के वार्ड में मच्छरदानी लगाया गया।

अस्पताल के वार्ड में मच्छरदानी लगाया गया।

डेंगू का नया वेरिएंट बरपा रहा कहर।

पटना में डेंगू की घातक प्रजाति डेन-वी टाइप 2 स्ट्रेन कहर बरपा रहा है। यह खुलासा आईजीआईएमएस में डेंगू के सैंपल ओं की हो रही सीरो टाइपिंग में हुआ है। आईजीआईएमएस के माइक्रो बायोलॉजी विभाग में राज्य में पहली बार डेंगू के स्ट्रेन की पहचान के लिए सीरो टाइपिंग की जा रही है।

कोरोना की तरह डेंगू से ठीक होने के बाद कई तरह की शिकायतें

कोरोना की तरह डेंगू संक्रमण से ठीक होने के बाद भी लोगों को लंबे समय तक इसके साइड इफेक्ट्स से जूझ रहे हैं। डेंगू से गंभीर रूप से पीड़ित होने के बाद लगभग 25 से 30% मरीजों में फैटी लिवर, लिवर में सूजन की शिकायत रह रही है। संक्रमण के दौरान 10 प्रतिशत पीड़ितों को पेट,फेफड़े और छाती में पानी की समस्या से जूझना पड़ रहा है। इसके अलावा ठीक होने के बाद वे लंबे समय तक जोड़ों व घुटने में दर्द, कलाइयों से काम करने में परेशानी, अकड़न आदि की समस्या से भी जूझते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here